आईये जाने कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वैरियंट के बारे में

डेल्टा प्लस वैरियंट : कोरोना वायरस में लगातार वैरियंट देखने को मिल रहा है। भारत में इन दिनों डेल्टा वैरियंट काफी चर्चा का विषय बना हुआ है।

अन्य वैरियंट की तुलना में इस डेल्टा प्लस वैरीअंट को अधिक खतरनाक बताया जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय इस वैरीअंट को लेकर सतर्क है और राज्यो को सतर्कता बरतने की सलाह दे रहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को महाराष्ट्र, केरल और मध्य प्रदेश सरकारों को कोविड -19 के डेल्टा प्लस संस्करण (वैरिएंट) पर सतर्क किया है। क्योंकि इन राज्यों के कुछ जिलों से परीक्षण किए गए कुछ नमूनों में वायरस की उपस्थिति की सूचना मिली थी।

इसमें अधिकारियों को कोविड -19 प्रोटोकॉल को सख्ती से लागू करने और उन जिलों में रोकथाम के उपायों को तेज करने की सलाह दी गई है विशेष कर के उन जगहों पर जहाँ वैरिएंट पाया गया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने दैनिक कोविड -19 प्रेस वार्ता के दौरान कहा, “भारत में डेल्टा प्लस संस्करण के 22 में से 16 मामले रत्नागिरी और जलगांव (महाराष्ट्र) और कुछ मामले केरल और मध्य प्रदेश में पाए गए हैं”।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन राज्यों के मुख्य सचिवों को प्राथमिकता के आधार पर जिलों और समूहों में तत्काल रोकथाम के उपाय करने की सलाह दी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की सलाह भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) द्वारा महाराष्ट्र के रत्नागिरी और जलगाँव जिलों से जीनोम अनुक्रमित नमूनों में डेल्टा प्लस वैरिएंट पाए जाने के बाद आई है। वहीं केरल के पलक्कड़ और पठानमथिट्टा जिले और मध्य प्रदेश के भोपाल और शिवपुरी जिले में ये वैरियंट मिला है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा कि भारत उन नौ देशों में शामिल है जहां डेल्टा प्लस संस्करण का पता चला है। इसने कहा गया कि यूएस, यूके, पुर्तगाल, स्विटजरलैंड, जापान, पोलैंड, नेपाल, चीन और रूस में डेल्टा वैरिएंट का पता चला है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि INSACOG से अब तक प्राप्त आंकड़ों के आधार पर यह पाया गया है कि डेल्टा प्लस वेरिएंट में तीन मुख्य विशेषताएं हैं – बढ़ी हुई ट्रांसमिसिबिलिटी, फेफड़ों की कोशिकाओं के रिसेप्टर्स के लिए बंधन, मोनोक्लोनल एंटीबॉडी प्रतिक्रिया में संभावित कमी।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा “राज्यों के मुख्य सचिवों को सलाह दी गई है कि वे जिलों और समूहों में तत्काल रोकथाम के उपाय करें (जैसा कि INSACOG द्वारा पहचाना गया है) जिसमें भीड़ को रोकना और लोगों को आपस में मिलाना, व्यापक परीक्षण करना, शीघ्र ट्रेसिंग के साथ-साथ वैक्सीन कवरेज को प्राथमिकता के आधार पर करना शामिल है। “

विज्ञप्ति में आगे कहा गया है, “उन्हें यह सुनिश्चित करने की भी सलाह दी गई थी कि सकारात्मक व्यक्तियों के पर्याप्त नमूने इंसाकोग की नामित प्रयोगशालाओं में तुरंत भेजे जाएं ताकि राज्यों को प्रदान किए जाने वाले आगे के मार्गदर्शन के लिए नैदानिक ​​​​महामारी विज्ञान के संबंध बनाए जा सकें।”

स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि इस संस्करण को अभी तक ‘चिंता के प्रकार’ के रूप में वर्गीकृत नहीं किया गया है, लेकिन इसे वर्तमान में सतर्कता का दर्जा दिया गया है।

यह भी पढ़ें :–

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.