बच्चों में उच्च रक्तचाप के लक्षण, कारण और उपचार के बारे मे जाने

बच्चों में उच्च रक्तचाप या उच्च रक्तचाप (High blood pressure) की समस्या तब होती है जब रक्तचाप का स्तर अन्य बच्चों के ब्लड प्रेशर 95 प्रतिशत से अधिक हो। बच्चे के लिंग, उम्र और ऊंचाई के अनुसार होता है।

लेकिन कोई सामान्य लक्ष्य रक्तचाप की माप नहीं है जो बच्चों में उच्च रक्तचाप का संकेत दे सकता है क्योंकि बच्चों के बढ़ने के साथ इसमे परिवर्तन कक सामान्य परिवर्तन माना जाता है।

6 साल से कम उम्र के बच्चों में उच्च रक्तचाप ज्यादातर एक अन्य चिकित्सा स्थिति के कारण होता है। बड़े बच्चे उन्हीं कारणों से उच्च रक्तचाप विकसित कर सकते हैं जिनमें वयस्कों में अधिक वजन, खराब पोषण और व्यायाम की कमी शामिल है।

जीवनशैली में बदलाव, जैसे हृदय, स्वस्थ आहार और अधिक व्यायाम करना ये सब कारण बच्चों में उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है। लेकिन कुछ बच्चों के लिए दवाएं आवश्यक हो सकती हैं।

यदि आपके बच्चे को रक्तचाप की स्वास्थ्य स्थिति स्थित नही है, तो यह उच्च रक्तचाप के जोखिम को बढ़ा सकती है। जिसमें इसका कारण समय से पहले जन्म, जन्म के समय कम वजन, जन्मजात हृदय रोग और कुछ गुर्दे की बीमारियां कारण हो सकती हैं।

रक्तचाप की जांच एक शिशु के रूप में शुरू होनी चाहिए। यदि आप अपने बच्चे को उच्च रक्तचाप के जोखिम कारक के बारे में चिंतित हैं, तो आप डॉक्टर से बात कर सकते हैं।

बच्चों में उच्च रक्तचाप या उच्च रक्तचाप के लक्षणों, कारणों और उपचार के बारे में डॉ. राजीव छाबड़ा, मुख्य बाल रोग, आर्टेमिस अस्पताल गुड़गांव ने इसके लक्षण व उपचार सुझाये है।

बच्चों में उच्च रक्तचाप के लक्षण (Symptoms)

डॉ. राजीव के अनुसार, उच्च रक्तचाप आमतौर पर बच्चों में कोई लक्षण नहीं पैदा करता है और ज्यादातर दिखाई नही देता है। लेकिन कुछ ऐसे संकेत और लक्षण हैं जो उच्च रक्तचाप की आपात स्थिति का संकेत दे सकते हैं। इन लक्षणों में शामिल हैं:

  • सिर दर्द
  • बरामदगी
  • उल्टी
  • सांस लेने में कठिनाई

ये लक्षण बच्चों में उच्च रक्तचाप का कारण बनता है।

बच्चों में उच्च रक्तचाप के कोई लक्षण नहीं होते हैं, लेकिन इसके कारण की पहचान करने की

 डॉ. राजीव के अनुसार, यहाँ बच्चों में उच्च रक्तचाप के मुख्य कारण हैं:

  • गुर्दे की बीमारी
  • जन्म दोष
  • हृदय की समस्याएं
  • एंडोक्रिनोलॉजिकल समस्या

बच्चों में उच्च रक्तचाप का इलाज

बच्चों में, एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाकर उच्च रक्तचाप की संभावना को कम किया जा सकता है। ज्यादातर मामलों में ये जीवनशैली में बदलाव इसका इलाज करने में भी मदद कर सकते हैं।

यह हमारे शरीर को दवाओं के प्रति बेहतर प्रतिक्रिया देता है और जटिलताओं को रोकता है। आपको अपने बच्चे के आहार और उनके वजन पर ध्यान देना चाहिए।

यह एक मिथक है कि मोटे बच्चे स्वस्थ होते हैं, अधिक वजन वाले किसी भी बच्चे पर नजर रखनी चाहिए और उनको शारीरिक गतिविधियों में शामिल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

हाई बीपी के सही कारण का पता लगाने के बाद बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। एक बार जब हम कारण को नियंत्रित कर लेते हैं, तो रक्तचाप की समस्या अपने आप हल हो जाती है।

इसका पूरी तरह से निदान किया जाता है क्योंकि बच्चों में उच्च रक्तचाप दुर्लभ होता है और यह अन्य बीमारियों का दुष्प्रभाव हो सकता है। डॉक्टर बच्चे के पूरे मेडिकल इतिहास को जाँचते हैं।

शारीरिक परीक्षण किया जाता है और आपको कम से कम दो या अधिक बार बीपी की जांच की जाती है क्योंकि कभी-कभी कफ के आकार, मशीन में समस्या के कारण रीडिंग गलत हो सकती है। कुछ तनाव/डर या कुछ जोरदार शारीरिक गतिविधियों के कारण भी कभी कभी रक्तचाप की रीडिंग भी अधिक हो सकती है।

यदि बच्चे को हल्के या मध्यम उच्च रक्तचाप के स्तर का निदान किया जाता है, तो बच्चे के डॉक्टर दवाओं को निर्धारित करने से पहले कुछ जीवनशैली में बदलाव, जैसे हृदय-स्वस्थ आहार और अधिक शारीरिक गतिविधि का प्रयास करने का सुझाव देंगे।

लेकिन, बच्चों के साथ इलाज वयस्कों जैसा बिल्कुल नहीं होता है। नमक वाले आहार को कम करने से बच्चों में रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करने में मदद नहीं मिलेगी और उनके लिए उचित दवा और उपचार की आवश्यकता होती है।

 डॉ. राजीव के अनुसार, यदि बच्चे को उच्च रक्तचाप के गंभीर स्तर का निदान किया जाता है, तो बच्चे के डॉक्टर शायद वयस्कों की तरह ही रक्तचाप की दवाओं की सिफारिश करेंगे।

डॉ. राजीव छाबड़ा द्वारा बच्चों में उच्च रक्तचाप या उच्च रक्तचाप के लक्षण, कारण और उपचार है। यदि आपके बच्चे का उच्च रक्तचाप मोटापे के कारण हो रहा है, तो वजन कम करने से दवाओं को महत्वहीन बनाने में मदद मिल सकती है।

अन्य मामलों में, बच्चे की अन्य अंतर्निहित चिकित्सा स्थितियों का इलाज करने से उसके रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ें :– गुड़हल का फूल इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के साथ ही अन्य बीमारियों में भी है फायदेमंद

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.