अपने आहार में इन चीजों को शामिल कर कोरोना वायरस व ब्लैक फंगस दोनों से रहें सुरक्षित

कोरोना वायरस महामारी के साथ-साथ देश में कई तरह के फंगल संक्रमण के मामले में तेजी से बढ़ रहे हैं। जिससे यह स्पष्ट हो गया है कि मजबूत इम्यूनिटी बेहद जरूरी है।

जिन लोगों की इम्युनिटी कमजोर है उन लोगों में कोरोना वायरस और ब्लैक फंगस संक्रमण काफी गंभीर समस्या उत्पन्न कर दे रहा है। इस तरह की विपरीत परिस्थितियों से बचने के लिए लोगों को अपनी इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए सभी उपाय करने चाहिए। 

कोरोना वायरस महामारी के दौर में देश भर में ब्लैक फंगस और वाइट फंगस के मामले बढ़ते हुए देखे जा रहे हैं। ऐसे में यह जानना बेहद जरूरी है कि हम किन चीजों का सेवन करें जिससे इन दोनों संक्रमण से सुरक्षित रह सके।

जैसा कि मालूम है विटामिन सी इम्यूनिटी को बूस्ट करने का काम करती है। आज हम विटामिन सी से भरपूर ऐसे ही कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में जानेंगे जो आप के इम्युनिटी को बूस्ट करने के लिए जाने जाती है।

नींबू –

नींबू में भरपूर मात्रा में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते हैं। यह कोरोना वायरस और फंगल इंफेक्शन से बचाव करता है। जब लोगों की इम्युनिटी मजबूत रहती है तो इस तरह के संक्रमण होने की संभावना कम हो जाती है।

ऐसे में नींबू का सेवन करना काफी फायदेमंद है। नींबू में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर से फ्री रेडिकल्स को भी हटाता है और कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले संक्रमण से सुरक्षा प्रदान करता है। बता दें कि नींबू में थियामिन, राइबोफ्लेविन, विटामिन बी सिक्स, पैंटोथैनिक एसिड, कॉपर, मैग्नीज जैसे तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।

संतरा –

संतरा विटामिन सी का एक बेहतर स्त्रोत माना जाता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार एक मध्यम आकार के संतरे का सेवन करने से विटामिन सी के 53.2 मिलीग्राम की पूर्ति होती है।

यह साइट्रिक गुणों से भरपूर होता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि साइट्रिक युक्त फलों के सेवन से हमारे शरीर में इम्यूनिटी को बूस्ट करने में मदद मिलती है क्योंकि इन साइट्रिक युक्त फलों में एंटी ऑक्सीडेंट के गुण होते हैं। यह फ्री रेडिकल्स के कारण कोशिकाओं को नुकसान पहुंचने से सुरक्षा प्रदान करते हैं।

शिमला मिर्च – 

शिमला मिर्च में खट्टे और साइट्रिक फलों की तरह की विटामिन सी की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा इसमें beta-carotene भी काफी मात्रा में होता है। शिमला मिर्च में मौजूद खनिज और विटामिन इम्यूनिटी को बूस्ट करने का काम करते हैं।

यह त्वचा की रंगत को सुधारते हैं और आंखों को स्वस्थ रखता हैं। शिमला मिर्च का सेवन करने से इम्यून सिस्टम को कमजोर करने वाले ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को भी कम करने में मदद मिलती है।

आंवला –

आयुर्वेद चिकित्सा में सदियों से आंवले का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। सदियों से आयुर्वेदिक चिकित्सा में इसका इस्तेमाल बीमारियों के इलाज में किया जाता रहा है। इस छोटे से फल में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।

संतरे की तुलना में केवल एक आंवले में विटामिन सी की लगभग 20 गुना अधिक मात्रा मौजूद होती हैं। विटामिन सी एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है, जो तंत्रिका तंत्र प्रतिरक्षा प्रणाली और त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं।

आंवले का सेवन करने से मेटाबॉलिज्म भी बेहतर रहता है। हड्डियों के निर्माण करने, प्रजनन और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ाने में भी इससे मदद मिलती है। रोजाना आंवले का जूस का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है।

अनानास –

अनानास का इस्तेमाल सदियों से पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए साथ ही सूजन से जुड़ी समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता रहा है। इस फल में मैग्नीज और विटामिन सी की उच्च मात्रा पाई जाती है।

इसमें कम कैलोरी होती है और यह फाइबर और ब्रोमलिन से समृद्ध होता है। रोजाना अनानास का सेवन करने से वायरल और बैक्टीरियल दोनों तरह के संक्रमण के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है और उनसे बचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें :बच्चों में ऐसे करें कोरोना वायरस की पहचान यह लक्षण दिखे तो तुरंत हो जाएं सावधान

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.