रोजाना एक केले का सेवन इन बीमारियों के जोखिम को करता है कम

केला खाना बहुत सारे लोगो को पसंद होता है। सब लोग जानते हैं कि केले का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है।केला एक बेहद स्वादिष्ट और पोषण से भरपूर फल है। इसमें कई सारे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।

केला पाचन तंत्र को दुरुस्त करता है और हृदय रोग से बचाता है। साथ ही यह वजन को नियंत्रित करने में भी मददगार माना जाता है।
केले में फाइबर की मात्रा काफी अधिक होती है। यही वजह है कि इसे पेट की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है।

एक शोध के अनुसार 100 ग्राम केला खाने से 89 कैलोरी, 75% पानी, 1.1 ग्राम प्रोटीन तथा 22.8 ग्राम कार्ब, 12.2 ग्राम शुगर, 2.6 ग्राम फाइबर, 0.3 ग्राम फैट पाया जाता है। शोध के अनुसार रोजाना केला खाना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। आज हम जानेंगे केला खाने से सेहत को होने वाले फायदे के बारे में।


डायबिटीज में फायदेमंद-


डायबिटीज के रोगी फलों के चयन में इस बात को ध्यान रखते हैं कि कौन सा फल उनके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होगा। केला स्वाद में मीठा होता है तो ज्यादातर लोगों का मानना है कि डायबिटीज के रोगियों को केले का सेवन नहीं करना चाहिए।

लेकिन अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के अनुसार डायबिटीज के मरीजों को केले का सेवन करना चाहिए क्योंकि केले में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता ह।, जो कि डायबिटीज के मरीजों का पाचन तंत्र बेहतर करता है।

इससे ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।एक शोध के निष्कर्ष में यहां पाया गया कि उच्च फाइबर वाले आहार को अपने डाइट में शामिल करने से डायबिटीज के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है।


हृदय रोग से बचाता है-


एक शोध के अनुसार ह्रदय से जुड़ी तमाम बीमारियों से केले का सेवन बजाता है। हृदय रोग से पीड़ित व्यक्तियों के लिए केले का सेवन करना फायदेमंद होता है। इससे हृदय का स्वास्थ्य बेहतर रहता है।

2017 में हुए एक शोध की समीक्षा में पाया गया कि उच्च फाइबर वाले आहार का सेवन करने से हृदय रोग का जोखिम काफी हद तक कम हो जाता है। यह बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं। ऐसे में हृदय रोगियों के लिए केले का सेवन सेहत के लिए फायदेमंद होता है।


अस्थमा में फायदेमंद-


साल 2007 में हुए एक शोध से यह पता चला कि अस्थमा से पीड़ित बच्चे यदि अपने केले का रोजाना सेवन करते हैं तो केले का सेवन कर सकते हैं। केले में एंटीऑक्सीडेंट और पोटेशियम भी पाया जाता है।

ऐसे में अस्थमा के रोगी यदि केले का सेवन करते हैं तो यह स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। हालांकि इस संबंध में अभी और भी ज्यादा शोध करने की जरूरत है। केले में पानी के साथ साथ फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है।

जैसा कि हम जानते हैं पानी और फाइबर पाचन तंत्र को बेहतर करने का काम करते हैं। एक मध्यम आकार के केले का यदि दैनिक रूप से सेवन किया जाता है तो इससे लगभग 10% की दैनिक जरूरत का फाइबर पाया जा सकता है।

फाइबर अधिक लेने से पाचन तंत्र बेहतर होता है। यही वजह है कि दस्त से पीड़ित मरीजों को डॉक्टर केला खाने की सलाह देते हैं। साल 2012 में हुए एक शोध में कहा गया है कि उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ बोलिंग सिंड्रोम से होने वाली सूजन पेट में गैस और एड्स जैसी समस्याओं को दूर करने में मददगार होते हैं।

नोट : इस लेख में बताई गई जानकारी केवल सामान्य जागरूकता के लिए बताई गई है। यह किसी भी बीमारी का इलाज नहीं है।

यह भी पढ़ें :

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.