चेहरे पर होने वाले मुहासे और अनचाहे बाल हो सकते हैं पीसीओडी के संकेत

महिलाओं के चेहरे पर होने वाले मुहासे और अनचाहे बाल हो सकते हैं पीसीओडी के संकेत आइए जानते हैं इनके बारे में विस्तार से

चेहरे पर जब मुंहासे हो जाते हैं तब इससे सुंदरता फीकी पड़ जाती है, खास करके लड़कियों के चेहरे पर मुंहासे और उसके निशान उनकी सुंदरता को कम करने का काम करते हैं।

सामान्य तौर से चेहरे पर होने वाले मुंहासे त्वचा के ऑयली होने, बैक्टीरियल फंगल इंफेक्शन के अलावा लाइफ में स्ट्रेस, हार्मोन में असंतुलन और खून में खराबी के चलते होता है।

मुहासे की समस्या सामान्य तौर पर महिलाओं को होती है और महिलाएं इसे अनदेखा करती हैं लेकिन कई बार यह किसी बड़ी बीमारी का संकेत भी हो सकता है। इसलिए मुंहासों की समस्या को कभी भी ज्यादा समय तक नजरअंदाज नही करना चाहिए।

बहुत सारी महिलाओं में मुंहासे की समस्या हार्मोन असंतुलन की वजह से होता है जिसका सबसे बड़ा कारण है पीसीओडी, इस पोस्ट में हम जानेंगे कि मुहासे और पीसीओडी जैसी गंभीर बीमारी का लक्षण कैसे बन जाते हैं?

महिलाओं को लेकर एक सर्वेक्षण किया गया है जिसमें से हर चार में से एक महिला को पीसीओडी की समस्या देखी गई है।

लेकिन सबसे आश्चर्य वाली बात यह है कि 50% से भी अधिक महिलाओं को इसके बारे में न के बराबर जानकारी थी।

चाहे वह महिलाओं के शरीर पर अनचाहे बाल हो या फिर मुहाँसे(पिम्पल) यह साफ तौर से संकेत महिलाओं को होने वाले पीसीओडी, जिसे पीसीओएस के नाम से भी जानते हैं।

यह एक ऐसी बीमारी है यदि इस पर समय पर ध्यान नहीं दिया जाता तो इसके घातक परिणाम देखने को मिलते हैं, खास करके महिलाओं के स्वास्थ्य पर इसका बुरा असर देखने को मिलता है।

मुंहासे होने के कारण – ( Reason Of Acne In Hindi ) :-

एंड्रोजन एक पुरुष का हारमोंस होता है, जिसे पुरुष सेक्स हार्मोन के नाम से भी आम तौर पर जाना जाता है।

लेकिन यह हार्मोन महिला और पुरुष दोनों में पाया जाता है और जब महिलाओं में इस हार्मोन की अधिकता होती है तब शरीर में हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाता है।

यह भी पढ़ें :- सीने में जलन की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

जिसके चलते महिलाओं में कई समस्याएं देखी जाती हैं, जिसमें महिलाओं के शरीर पर अनचाहे बाल होना या फिर मुहाँसे निकलना, इसका लक्षण है।

जिन महिलाओं के शरीर पर मुंहासे ज्यादा होते हैं उनमें पीसीओडी जैसी गंभीर बीमारी होने की संभावना सबसे अधिक रहती है।

खतरनाक है मुंहासे को नजरअंदाज करना – ( It Is Dangerous To Ignore Acne In Hindi ) :-

मुहासे की समस्या एक ऐसी समस्या है जिससे हर महिला और लड़की को दो-चार होना पड़ता है। लेकिन यह मुहाँसे महिलाओं के चेहरे को खराब करने का काम करते हैं ।

यदि लंबे समय तक इन्हें नजरअंदाज किया जाता है तो कई बार यह महिलाओं को निःसंसतता का शिकार भी बना देते हैं।

दरअसल मुहासे का कारण पीसीओडी की समस्या है जो कि लंबे समय बाद इनफर्टिलिटी का कारण भी बन जाती है । जिसके चलते महिलाओं को गर्भधारण करने में परेशानी होती है।

 एलोपैथ के विशेषज्ञों का कहना है कि मुंहासे के लक्षणों को पहचान करके पीसीओडी की समस्या का समाधान करना चुनौतीपूर्ण काम है ।

लेकिन आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार पीसीओडी से छुटकारा पाया जा सकता है और महिलाओं को होने वाली यह समस्या से बचाया जा सकता है।

पीसीओडी के लक्षण ( Symptoms of PCOD In Hindi ) :-

फर्टिलिटी विशेषज्ञों का मानना है कि मुहासा पीसीओडी का एक सामान्य लक्षण है जिससे भारत में करीब 5 से 7% महिलाएं आज भी प्रभावित है।

आमतौर पर महिलाओं में होने वाली माहवारी(पीरियड्स) जैसी समस्या के लक्षण को दर्शाती है। विशेषज्ञों के अनुसार जिन महिलाओं को एक साल में 9 बार से कम पीरियड आते हैं उनमें अलीगोमेनरिया नामक बीमारी रहती है जिसके चलते महिलाओं में माहवारी यानी कि पीरियड की समस्याएं देखी जाती हैं।

हालांकि कई सारी महिलाओं में अन्य कुछ समस्याएं भी हो सकती हैं। इस समस्याओं के चलते ही महिलाओं के शरीर के कुछ हिस्सों में अनचाहे बाल और मुहाँसे की समस्या देखने को मिलती है।

खास करके हाइपरएंड्रोजेनिज्म हार्मोन की अधिकता के कारण होता है बीमारी होती है।हाइपोएडॉजेनिज्म एक ऐसी बीमारी है जिसका संबंध महिलाओं के पीरियड से होता है।

अक्सर देखा जाता है कि इस बीमारी की वजह से महिलाओं का मासिक चक्र(पीरियड्स) सामान्य से अधिक लंबा या फिर जटिल हो जाता है।

इस बीमारी में महिलाओं में एक और समस्या देखी जाती है इस बीमारी से पीड़ित महिलाओं के बाल बहुत ही पतले होते हैं और झड़ने लगते हैं।

यह भी पीसीओडी यानी कि निःसंतता का ही एक लक्षण माना जाता है। इसके चलते महिलाओं के शरीर मे मेटाबोलिज्म लेवल भी प्रभावित होता है और इसकी वजह से महिलाएं अपने वजन को नियंत्रण में नही रख पाती हैं। बढ़ा हुआ वजन भी पीसीओडी का एक लक्षण माना जाता है।

मुंहासे और पीसीओडी होने के कारण ( Reason Of Acne And PCOD ) :-

आयुर्वेद के अनुसार महिलाओं के चेहरे पर होने वाले पिंपल्स का सबसे बड़ा कारण उनका आहार होता है, जो लोग ज्यादा जंक फूड और ऑयली फूड का सेवन करते हैं और जिन महिलाओं की त्वचा ऑयली होती है उन लोगो को मुहाँसे ज्यादा ज्यादा निकलते हैं।

आजकल महिलाओं में धूम्रपान के प्रति लगाव बढ़ रहा है साथ ही अल्कोहल के प्रयोग से भी पीसीओडी और मुहासे की समस्या देखने को मिल रही है।

इसके अलावा लाइफ में स्ट्रेस, व्यायाम न करने के अलावा कई बार अनुवांशिक कारण भी इसके लिए जिम्मेदार होते हैं।

पीसीओडी की जांच ( Test Of PCOD ) :-

स्वास्थ्य विशेषज्ञ के अनुसार जिन लोगों को अधिक मुहासे हो रहे हैं उन्हें अपने पीसीओडी की जांच करवा कर डॉक्टर से सलाह लेकर इसका इलाज करवाना चाहिए।

इसके लिए ब्लड प्रेशर एवं पेल्विक एरिया की जांच की जाती है। इस जांच के जरिए डॉक्टर अनचाहे बाल और मुंहासे के कारण पता करते हैं।

इन दो टेस्ट के अलावा डॉक्टर कई बार पेल्विक अल्ट्रासाउंड कराने को भी कहते हैं जिससे वास्तविक स्थिति का पता चल सके।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.