Plant Based Meat: आइए जाने क्या होता है वीगन मीट ?

शाकाहारी मांस को वीगन मीट के नाम से जाना जाता है। यह वास्तविक मास की तरह ही देखने में लगता है। यही नही इसका स्वाद में भी वास्तविक मास की तरह ही होता है।

यही वजह है कि इन दिनों वीगन मीट काफी चर्चा का विषय बना हुआ है। इसके अलावा पावर कपल कहे जाने वाले अनुष्का शर्मा और विराट कोहली ने ब्लू ट्राइब नामक पौधे आधारित ब्रांड में निवेश किया है और इसके ब्रांड एंबेसडर भी हैं। दोनों को जानवरों से प्यार है और इस बारे में उन्होंने अपनी सोशल मीडिया साइट इंस्टाग्राम पर भी बताया है।

इन दिनों भारत में यह शाकाहारी मांस (Plant Based Meat) काफी लोकप्रिय हो रहा है। लेकिन हम आपको बता दें शाकाहारी मांस का शुरुआत सबसे पहले अमेरिका में हुई थी। लेकिन जल्द ही यह भारत सहित दुनिया भर में फैल गया।

आइए जानते हैं क्या होता है वीगन मांस अर्थात शाकाहारी शाकाहारी मांस (Plant Based Meat) तथा क्या यह वास्तविक मांस से वाकई में ज्यादा सेहतमंद है?

Plant Based Meat: शाकाहारी मांस कैसे बनता है?

शाकाहारी मांस को वीगन मांस भी कहा जाता है। यह स्वास्थ्य का एक अच्छा विकल्प माना जाता है। शाकाहारी मांस (Plant Based Meat) को बनाने के लिए वनस्पति, प्रोटीन, गेहूं, ग्लूटन, सोया, चावल आदि का इस्तेमाल करके बनाया जाता है।

इसके स्वाद और रूप को बेहतर बनाने के लिए नारियल तेल, मसाले और चुकंदर के रस का भी इस्तेमाल किया जाता है। भारत में बनने वाले शाकाहारी मांस (Plant Based Meat) में इन सेहतमंद चीजों का इस्तेमाल होता है। यही वजह है कि यह वास्तविक मांस की तुलना में थोड़ा महंगा होता है।

क्या है वीगन मांस है?

स्बहुत कम लोगों को पता है कि वास्तविक मांस की तुलना में शाकाहारी मां सेहत के लिए अधिक फायदेमंद है। क्योंकि इसमें कम मात्रा में व संतुलित मात्रा में सेहत के लिए फायदेमंद चीजें होती है। यही वजह है कि इसे अच्छा माना जा रहा है।

संतुलित आहार को वैसे भी मुश्किल माना जाता है। शाकाहारी मांस में उन चीजों का इस्तेमाल किया जाता है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छा हो। इसमें अधिक प्रोटीन होती है, कम वसा होती है।

साथ ही कोलस्ट्रोल की मात्रा भी कम होती है। हालांकि शाकाहारी मास में सोडियम अधिक मात्रा में पाया जाता है। क्योंकि यह स्वादिष्ट लगे इसके लिए इसमें सोडियम का इस्तेमाल अधिक होता है।

कहा जाता है कि शाकाहारी मांस की सेल्फ लाइफ में बढ़ाने में भी सोडियम का प्रयोग किया जाता है। यही वजह है कि सोडियम अधिक होने की वजह से शाकाहारी मांस को संतुलित मात्रा में ही लेना चाहिए।

क्योंकि अगर जरूरत से ज्यादा इसका इस्तेमाल किया जाएगा तो शरीर में सोडियम की मात्रा बढ़ने लगेगी। जिसकी वजह से स्ट्रोक ओर हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। क्योंकि यह ब्लड प्रेशर को बढ़ाने का काम करता है।

संतुलित आहार है स्वास्थ्य की कुंजी

वीगन मांस अर्थात शाकाहारी मांस (Plant Based Meat) की तुलना अगर वास्तविक मांस से किया जाए तो शाकाहारी मांस सेहतमंद होता है। लेकिन इसका सेवन संतुलित मात्रा में ही करना बेहतर है। अगर इसका ज्यादा सेवन किया जाता है तो यह स्वास्थ्य को फायदा पहुंचाने के बजाय नुकसान पहुंचा सकता है।

यह भी पढ़ें :–

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.