क्या आप अपने अवसाद के जोखिम को जानना चाहते हैं? अपने बॉडी क्लॉक पर ध्यान दे कर देखे

जब हम बीमार पड़ते हैं तो हमारे शरीर की प्राकृतिक घड़ी बदल जाती है। बुखार, सर्दी और फ्लू जैसी सामान्य बीमारियों के मामलों में बदलाव लगभग न के बराबर होते है।

लेकिन अगर समस्या बड़ी है, तो बदलाव भी बड़े और दृश्यमान होंगे। यदि आप पुराने तनाव से गुजर रहे हैं और हर समय Low महसूस कर रहे हैं, तो आपको ध्यान देना चाहिए कि क्या आपकी नींद के पैटर्न में कोई बदलाव आया है।

आपके शरीर की बॉडी क्लॉक (प्राकृतिक घड़ी) में कोई भी बदलाव आने वाले स्वास्थ्य खतरे का संकेत देता है, विशेष रूप से अवसाद। यह तथ्य एक्सेटर विश्वविद्यालय द्वारा किए गए एक अध्ययन के परिणामस्वरूप बताया गया है।

 बॉडी क्लॉक और डिप्रेशन के बीच संबंध :-

एक्सेटर विश्वविद्यालय यूनाइटेड किंगडम ने एक व्यक्ति में अवसाद के जोखिम और उनके शरीर की घड़ी (body clock) में बदलाव के बीच संबंध खोजने के लिए शोध किया गया।

उनकी रिपोर्ट के अनुसार, जो लोग अपने बॉडी क्लॉक के विपरीत नींद के पैटर्न में बदलाव का अनुभव करते हैं, उनमें अवसाद और खराब स्वास्थ्य का खतरा अधिक होता है।

शोध दल ने यह भी पाया कि लोगों को आनुवंशिक रूप से जल्दी उठने के लिए प्रोग्राम किया जाता है जो बीमारियों को रोकने में बहुत अच्छा है और कल्याण को बढ़ावा देता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एक बड़ी आबादी मानक 9-5 शिफ्ट में काम करती है जिससे वे जल्दी उठ जाते हैं। चूंकि महामारी ने हमारे जीवन को प्रभावित किया है, इसलिए काम करने का तरीका भी लचीला हो गया है।

आनुवंशिक मानचित्रण के माध्यम से अनुसंधान :-

नींद के समय और अवसाद के जोखिम के बीच संबंध स्थापित करने के लिए टीम ने मेंडेलियन रैंडमाइजेशन नामक एक सांख्यिकीय प्रक्रिया के माध्यम से जीन मैपिंग शुरू की।

350 से अधिक जीनों को यह पता लगाने के लिए मैप किया गया था कि क्या अवसाद सहित मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं में उनकी कोई भूमिका है।

यह पाया गया कि जो लोग स्लीप शेड्यूल में मिसलिग्न्मेंट दिखाते हैं, वे सेट शेड्यूल वाले लोगों की तुलना में चिंता, खराब स्वास्थ्य और अवसाद की रिपोर्ट करने वाले होते हैं।

इस शोध की प्रमुख लेखिका जेसिका ओ’लॉघलिन, यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर ने कहा, “हमने पाया कि जिन लोगों को उनकी प्राकृतिक बॉडी क्लॉक से गलत तरीके से जोड़ा गया था, उनमें अवसाद, चिंता और कम भलाई की रिपोर्ट करने की संभावना अधिक थी।

हमें अभी तक का सबसे मजबूत सबूत भी मिला है कि सुबह उठने वाला व्यक्ति अवसाद से बचाव करता है इसमे सुधार करता है। हमें लगता है कि इसे इस तथ्य से समझाया जा सकता है कि काम के लिए जल्दी जागने के कारण, इसको नही मानते है।

अध्ययन की वरिष्ठ लेखिका डॉ जेसिका टाइरेल, यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर ने कहा, “कोविड-19 महामारी ने कई लोगों के लिए काम करने के पैटर्न में नया लचीलापन पेश किया है।

हमारे शोध से संकेत मिलता है कि किसी व्यक्ति के प्राकृतिक शरीर की घड़ी में काम करने के शेड्यूल को संरेखित करने से मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है।

इससे पता चलता है कि आपकी नींद का पैटर्न और बॉडी क्लॉक जितना अधिक सम्बन्ध होगा, आपका स्वास्थ्य उतना ही बेहतर होगा। जल्दी सोना और जल्दी उठना आम बीमारियों के साथ-साथ अवसाद के जोखिम को भी कम करता है।

यह भी पढ़ें :–

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *