नये लोगों के लिए सूर्य नमस्कार – घर पर सूर्य नमस्कार कैसे करें

सूर्य नमस्कार सूर्य को नमस्कार या सूर्य नमस्कार है। यह 12 शक्तिशाली व्यायाम का एक क्रम है जो आपको स्वस्थ और शांतिपूर्ण जीवन बनाने में मदद करता है।

ये आसन व्यक्ति को अवसाद, चिंता, तनाव और क्रोध की समस्या से बाहर आने में भी मदद करते हैं। ये आसन मानसिक मुद्दों पर काम करते हैं और एक शांतिपूर्ण और सुखी जीवन देते हैं। यह शुरुआत करने वाले नये लोगों के लिए सूर्य नमस्कार के लिए एक मार्गदर्शिका है।

सूर्य नमस्कार में 12 आसन हैं जो आपके वजन को तेजी से कम करने में मदद करेंगे और आपको एक अच्छी काया प्रदान करेंगे।

योग हमारे ऋषियों और मुनियों द्वारा शुरू की गई हमारी प्राचीन तकनीक है। बाद में इसे बाबा रामदेव ने इसे आगे बढ़ाने का काम किया।

वह इन तकनीकों को खूबसूरती से सिखाते हैं और उनके फायदे भी बताते हैं।

सूर्य नमस्कार नाम संस्कृत शब्द सूर्य, “सूर्य” से लिया गया है और नमस्कार का अर्थ है “अभिवादन” या “सलाम”।

इस आसन के प्रत्येक चरण और गति के लाभ होते हैं। अब हम नये लोगों के लिए सूर्य नमस्कार के 12  म सूर्य नमस्कार चरणों और उनके लाभों पर चर्चा करेंगे।

सूर्य नमस्कार के लिए 12 योग मुद्राएं:-

1 पर्माशन (प्रार्थना मुद्रा )

एक चटाई लें और नंगे पैर खड़े हो जाएं। अपने पैर पास पास रखें। अपनी पीठ को सीधा रखते हुए सही मुद्रा में रहें। अब गहरी सांस लें और अपने हाथों को प्रार्थना की मुद्रा में मोड़ें और आराम करें।

2. हस्त उत्तानासन (उठाए हुए शस्त्र मुद्रा)

अब प्रार्थना की मुद्रा के बाद गहरी सांस लें और अपनी दोनों भुजाओं को ऊपर उठाएं, बाइसेप्स को कानों के पास रखते हुए अपने पूरे शरीर को ऊपर उठाएं। अपने शरीर को वापस लेने की कोशिश मत करो। बस अपने हाथ और रीढ़ की हड्डी पर ध्यान केंद्रित करें, अपने हाथ को उसी के अनुसार फैलाएं।

3. हस्तपादासन (हाथ से पैर की मुद्रा)

अब सांस छोड़ते हुए कमर से झुकें और सांस छोड़ते हुए हाथ को नीचे लाएं। अपना हाथ अपने पैरों के पास रखो। याद रहे हाथ को नीचे की ओर छुने से आपके घुटने मुड़े हुए नहीं होने चाहिए।

4. अश्व संचालनासन (घुड़सवारी मुद्रा)

अब सुनिश्चित करें कि आपके पैर हथेली के बीच में हों। अपने दाहिने पैर को पीछे धकेलते हुए सांस अंदर लें। और अपने बाएं घुटने को मोड़ें। आपकी हथेली पैरों के पास होनी चाहिए। फर्श देखकर आपका चेहरा ऊपर उठ जाएगा। खिंचाव महसूस करो।

5. दंडासन (स्टिक पोज)

अब सांस अंदर लेते हुए अपने बाएं पैर को पीछे ले जाएं। अपनी पीठ और दोनों पैरों को सीधा करें और आपका पूरा वजन आपकी हथेली और पैरों पर हो। अपने पूरे शरीर को एक सीध में बना लें।

6. अष्टांग नमस्कार (आठ भागों या बिंदुओं से प्रणाम)

फर्श को छूते हुए धीरे-धीरे अपने घुटने को नीचे लाएं और सांस छोड़ें। अपने घुटने को नीचे करके आपके कूल्हे ऊपर होने चाहिए और आपकी छाती और ठुड्डी फर्श पर होनी चाहिए।

आपका वजन आपके पैरों, घुटने और आपकी छाती पर होगा। आपके हाथ आपकी छाती के पास होंगे। दोनों हाथ, दो पैर, दो घुटने, छाती और ठुड्डी, शरीर के कुल आठ अंग फर्श को छूते हैं।

7. भुजंगासन (कोबरा मुद्रा)

अब सांस अंदर लें और आगे बढ़ें। फर्श को देखकर अपनी छाती और सिर को ऊपर उठाएं और कोबरा पोज दें। आपका पैर सीधा रहेगा और आपका वजन पैरों, पेट और हथेली पर होगा।

8. पर्वतासन (पर्वत मुद्रा)

अब सांस छोड़ते हुए अपने दोनों हाथों को फर्श पर और अपने सिर को दोनों हाथों के बीच में रखते हुए अपने कूल्हों को पहाड़ की मुद्रा और छाती को नीचे की ओर उठाएं।

9. अश्व संचालनासन (घुड़सवारी मुद्रा)

अब हम अपने मूल मुद्रा में वापस आ रहे हैं। अपने दाहिने पैर को दोनों हाथों के बीच में आगे बढ़ाते हुए सांस लें, अपने बाएं पैर को सीधा करें, अपने सिर को फर्श पर देखते हुए ऊपर उठाएं।

10. हस्त पदासन (हाथ से पैर की मुद्रा)

धीरे-धीरे सांस छोड़ें, अब अपने बाएं पैर को आगे लाएं। अपनी हथेली को फर्श पर और सिर को एक हाथ के बीच में अपने पैर की ओर रखें।

11. हस्तौतनासन (उठाए हुए शस्त्र मुद्रा)

अब सांस अंदर लें और अपने हाथ को फर्श से ऊपर की ओर ले जाएं, अपने शरीर को फैलाएं। आपकी रीढ़ की हड्डी थोड़ी पीछे की ओर होनी चाहिए, सांस रोककर रखें।

12 प्राणायाम (Prayer Pose)

अब सांस को छोड़ते हुए हाथ नीचे करें, पीठ को सीधा करें और हाथ को प्रार्थना मुद्रा की तरह मोड़ें। अब आराम करो।

सूर्य नमस्कार के लाभ :-

  • सूर्य ऊर्जा का परम स्रोत है और योग में हम ऐसा ही करते हैं। सुबह की एक्सरसाइज के कई फायदे हैं। यह तन और मन को तरोताजा करता है। यह रोजाना व्यायाम करने से कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं का समाधान भी करता है।
  • यह सुबह का व्यायाम है लेकिन अगर आपके पास सुबह का समय नहीं है तो आप इसे दोपहर में भी कर सकते हैं। लेकिन खाली पेट। यह आपके शरीर को ऊर्जावान बनाता है और आपको तेज बनाता है।
  • दैनिक अभ्यास आपके शरीर को लचीला बनाता है और आपकी मांसपेशियों को टोन करता है। यह तेजी से वजन कम करने में भी मदद करता है  । यह व्यायाम आपके पाचन तंत्र को टोन करने में मदद करेगा।
  • आसन का सबसे खूबसूरत हिस्सा यह है कि यह हमारी त्वचा को चमकदार और आकर्षक बनाता  है। आसन रक्त को तेजी से घुमाते हैं जो हमारे चेहरे और त्वचा को प्रभावित करता है।
  • यह हमारे पेट की चर्बी को भी दूर करने में मदद करता है ।
  • नियमित रूप से ऊपर और नीचे मूविंग और स्ट्रेचिंग पोज़ बेली फैट को हटाने में मदद करते हैं। नियमित अभ्यास अच्छा परिणाम देगा।
  • आसन रीढ़, गर्दन, कंधे, हाथ, हाथ, कलाई, पीठ और पैर की मांसपेशियों को टोन करते हैं, जिससे समग्र लचीलेपन को बढ़ावा मिलता है।
  •  सूर्य नमस्कार का एक और महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह पेट के आसपास की चर्बी को कम करता है।

यह भी पढ़ें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *