रोजाना सिर्फ 10 मिनट सूर्य नमस्कार के होते है अद्भुत फायदे

सूर्य नमस्कार के फायदे: ज्यादातर लोग यह सोचते हैं कि सूर्यनमस्कार करना सिर्फ एक योगा या एक्सरसाइज है। इस एक्सरसाइज को करने से पीठ और मसल्स मजबूत हो जाती है।

लेकिन आपको बता दें कि सूर्य नमस्कार आपके संपूर्ण फिजिकल सिस्टम के लिए एक बहुत बेहतरीन वर्कआउट है। इसे करने के लिए आपको किसी विशेष उपकरण की जरूरत भी नहीं होती है।

साथ ही इस योग को करने से जीवन की थकान और नीरस रूटीन से फ्री होने में मदद मिलती है और शरीर दिनभर एक्टिव रहता है। अगर रोजाना सूर्य नमस्कार सही तरीके से और सही समय पर आप करते हैं तो इसके अद्भुत फायदे मिलते हैं।

यह आपकी पूरी जिंदगी को बदल सकता है। इसके परिणाम दिखने में थोड़ा समय लग सकता है। लेकिन आपकी त्वचा जल्द से जल्द इसका असर दिखाने लगती है।

यह सबसे पहले आपकी त्वचा को डिटॉक्सिफाई करता है। अगर आप नियमित रूप से सूर्य नमस्कार का अभ्यास करेंगे तो इससे आपकी
मानसिक हेल्थ भी काफी अच्छी रहेगी।

आप में रचनात्मकता, सहज क्षमता, निर्णय लेने की क्षमता, नेतृत्व करने की क्षमता तथा आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। आज हम जानेंगे सूर्य नमस्कार के फायदे के बारे में।

वैसे तो सूर्य नमस्कार करने के कई तरीके हैं रोजाना सिर्फ 10 मिनट सूर्य नमस्कार करने से हमारा तन और मन स्वस्थ रहता है और यह हमारे लिए बहुत फायदेमंद होता है। सूर्य नमस्कार ऑलराउंडर आसन के तौर पर भी जानते हैं।

यह पीठ और मांसपेशियों को मजबूत बनाता है, साथ ही ब्लड शुगर की समस्या को भी कम करता है। सूर्य नमस्कार करने से मेटाबॉलिज्म और ब्लड सरकुलेशन बेहतर ढंग से काम कर पाता है। इसे करने से स्किन ग्लोइंग बनती है।

जिन महिलाओं को पीरियड से जुड़ी समस्या है अगर वह नियमित रूप से इस आसन को करते हैं तो उनका पीरियड नियमित रूप से आने
लगता है।

सूर्य नमस्कार करने के लिए सुबह सिर्फ 10 मिनट का समय पर्याप्त है। यह 10 मिनट आपके जिंदगी में काफी बदलाव आ सकता है। आइए जानते हैं सूर्य सूर्य नमस्कार से होने वाले फायदे के बारे में


ग्लोइंग स्किन :
सूर्य नमस्कार करने से चेहरे और पूरी बॉडी पर ब्लड सरकुलेशन बढ़ जाता है। इससे त्वचा और आसपास के चेहरे पर तेजी से ग्लो वापस आता है। झुर्रियां और बुढ़ापे को रोकने में इससे मदद मिलती है। अगर आप इसका बेहतर परिणाम पाना चाहते हैं तो रोजाना इस आसन को जरूर करें।


पीरियड में फायदेमंद
सूर्य नमस्कार करने से पीरियड्स को नियमित करने में मदद मिलती है। यह पेट के मसल्स को मजबूत बनाता है और पीरियड के दर्द को भी कम कर देता है। पीरियड के दर्द से बचने के लिए रोज सूर्यनमस्कार करें। ब्लड शुगर कम करता है सूर्य नमस्कार का नियमित रूप से अभ्यास करने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है और हृदय से जुड़ी बीमारियां भी दूर रहती हैं।


मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद
नियमित रूप से सूर्यनमस्कार करना आपके शारीरिक स्वास्थ्य के लिए तो फायदेमंद है, साथ ही यह मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। यह मेमोरी के साथ-साथ नर्वस सिस्टम में सुधार करता है।

इससे मन को शांत करने और चिंता से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। यह एंडोक्राइन गलैंड्स की गतिविधियों को सामान्य कर देता है। जिन लोगों को थायराइड की समस्या होती है उन लोगों के लिए सूर्य नमस्कार बहुत फायदेमंद होता है।


डाइजेशन को बेहतर करता है
सूर्य नमस्कार करने से डाइजेशन सिस्टम सुचारू रूप से काम करता है। इससे डाइजेस्टिव सिस्टम में ब्लड का फ्लो बेहतर हो जाता है और आंत बेहतर ढंग से काम करती है।

आगे की मुद्रा विशेष रूप से पेट खींच कर पेट की जगह को अंदर से बढ़ाने में मदद करता है। इससे पेट के अंदर फंसी हुई गैस बाहर निकलती है और डाइजेशन सिस्टम बेहतर होता है।


नोट : सूर्य नमस्कार करने से पहले इसकी विधि को अच्छी तरह से जान लें उसके बाद ही इस योग को करें। इस योग को करने के लिए सुबह का समय काफी अच्छा माना जाता है, तो हो सके तो सुबह के समय नियमित रूप से इस योगाभ्यास को करे।

यह भी पढ़ें :–

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *