आइए जानते हैं शरीर में विटामिन ई की कमी से होने वाली समस्याओं के बारे में

हमारे शरीर के लिए विटामिन बहुत जरूरी होता है। शरीर मे विटामिन ई पर्याप्त मात्रा में ना होने से कई तरह की समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं। विटामिन ई को हमारे शरीर के सही पोषण के लिए एक बेहद जरूरी तत्व माना गया है।

शरीर में इसकी कमी से कई तरह की बीमारियां और समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। नानावती मैक्स सुपर स्पेशलिस्ट अस्पताल में पोषण विशेषज्ञ एवं आहार विभाग के प्रमुख डॉ उषा किरण सिसोदिया से आज हम जानेंगे विटामिन ई की कमी से होने वाले प्रमुख समस्याओं के बारे में, लेकिन इसके पहले हम यह जानेंगे कि विटामिन ई क्या होता है।

विटामिन ई क्या है? ( What is Vitamin E in Hindi ) :-

विटामिन ई वसा में घुलनशील एक विटामिन है। यह एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है। विटामिन ई शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती है और विभिन्न रोगों से लड़ने में शरीर को मदद करता है।

विटामिन ई की सबसे ज्यादा जरूरत महिलाओं, पुरुषों, बुजुर्गों और बच्चों को होती है। तो संक्षेप में हम कह सकते हैं कि विटामिन ई हम सभी के लिए बेहद जरूरी है। शरीर में विटामिन ई की कमी से कई तरह की बीमारियां घर करने लगती है।

विटामिन ई की कमी ( Vitamin E deficiency in Hindi ) :-

पोषण विशेषज्ञ डॉ उषा किरण सिसोदिया के अनुसार विटामिन ई हमारे शरीर के लिए एक बेहद जरूरी पोषक तत्व में से एक है। यह हमारे प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है। विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा शरीर को न मिलने से शरीर में कई तरह की बीमारियां होने की आशंका रहती है। विटामिन ई की कमी असामान्य समझी जाती है।

जिसकी वजह से घाव भरने में समय लगता है। कैसर में स्किन कैंसर जैसी बीमारियां होने का खतरा अधिक रहता है। विशेषकर के त्वचा संबंधी विकारों के लिए विटामिन ई की कमी काफी हद तक जिम्मेदार है। इसलिए इन समस्याओं से बचने के लिए विटामिन ई बेहद जरूरी है। कुछ खाद्य पदार्थों में विटामिन ई प्रचुर मात्रा में पाई जाती है और कुछ से पूरक आहार के रूप में जोड़ा जा सकता है।

विटामिन ई की कमी के लक्षण ( Symptoms of Vitamin E Deficiency in Hindi ) :-

पोषक विशेषज्ञ डॉ उषा किरण सिसोदिया के अनुसार शरीर में सभी पोषक तत्व जब पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलते हैं तो इसके कुछ न कुछ शारीरिक लक्षण जरूर दिखाई पड़ते हैं।

जिनसे पता चलता है कि शरीर में विटामिन और मिनरल्स की कमी हो रही है। ऐसे ही विटामिन ई के साथ भी समस्याएं होती हैं। जब शरीर में विटामिन ई की कमी होने लगती है तो निम्नलिखित लक्षण दिखते हैं –  जैसे –

  •  देर तक खड़े होने में परेशानी होना
  •  मांसपेशियों में दर्द की समस्या
  •  साफ दिखाई ना पडना
  •  पेट से जुड़ी समस्याओं का बने रहना
  •  हमेशा सुस्ती और आलस महसूस होना
  •  हमेशा थकान महसूस होना
 विटामिन ई की कमी से होने वाली समस्याएं ( Vitamin E deficiency problems in Hindi ) :-

शरीर में विटामिन ई की कमी से कई तरह की बीमारियां पैदा होने लगती हैं। अगर समय रहते हैं इनका इलाज नहीं किया जाता है तब यह गंभीर समस्या में तब्दील हो जाती हैं जैसे –

मांसपेशियों का कमजोर होना

शरीर में विटामिन ई की कमी होने लगती है तो मांसपेशियों में सबसे पहले कमजोरी आने लगती है। यह इसकी एक बेहद सामान्य समस्या है। सबसे पहले व्यक्ति को विटामिन ई की कमी होने से इसी समस्या का सामना करना होता है।

आंखों से जुड़ी परेशानी

 आंखों के स्वास्थ्य के लिए विटामिन ई बेहद जरूरी है। शरीर में विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा होने से आंखों की रोशनी अच्छी रहती है। अगर शरीर में विटामिन ई की कमी होने लगती है तो आंखों पर भी इसका असर देखने को मिलता है।

इससे नजरें कमजोर होने लगती हैं। विटामिन ई की कमी से आंखों का रेटिना और डिजनरेशन पतला होने लगता है। आंखों के अंदर की तरफ पर इसका असर पड़ने लगता है और देखने में चीजें धुंधली दिखाई देती हैं। अगर आपको भी इस तरह की समस्या हो रही है तो हो सकता है कि शरीर में विटामिन ई की कमी हो रही हो।

पाचन तंत्र से जुड़ी समस्या

पोषक तत्व विशेषज्ञ डॉ उषा किरण सिसोदिया का मानना है कि शरीर में विटामिन ई की कमी की वजह से पाचन क्रिया सही ढंग से नहीं होती है और इसका असर आहार तंत्र पर भी देखने को मिलता है।

पाचन तंत्र कमजोर होने की वजह से पेट से जुड़ी कई परेशानियां उत्पन्न हो जाती हैं। अगर आप अपने पाचन तंत्र को बेहतर बनाए रखना चाहते हैं तो अपने डाइट में विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा को जरूर शामिल करें।

बच्चों का कम वजन

अगर प्रेगनेंसी के दौरान मां के शरीर में विटामिन ई की कमी होती है तब बच्चों का वजन भी कम हो सकता है। इसलिए प्रेग्नेंट महिलाओं को अपने डाइट का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

बैलेंस डाइट प्रेगनेंसी में बेहद जरूरी होती है क्योंकि अगर शरीर में पोषक तत्वों की कमी होती है तो इसका सीधा असर बच्चे के स्वास्थ्य पर पड़ता है।

खून की कमी होना

विटामिन ई शरीर के लिए एक बेहद आवश्यक तत्व है। शरीर में विटामिन ई की कमी होने से रेड ब्लड सेल्स कम मात्रा में बनते हैं जिसकी वजह से शरीर में खून की कमी होने लगती है और कई बीमारियां इसकी वजह से पैदा होने लगती है।

रेड ब्लड सेल ही हिमोग्लोबिन को बढ़ाने का काम करता है। साथ ही यह रेड ब्लड सेल्स ही शरीर के विभिन्न हिस्सों में ऑक्सीजन की सप्लाई करते हैं।

नर्वस सिस्टम से जुड़े परेशानी

शरीर में विटामिन ई की कमी होने से नर्वस सिस्टम प्रभावित होता है और सही ढंग से काम नहीं कर पाता है। इसका असर इंसान के कामकाज पर भी पड़ने लगता है।

तनाव में रहना

शरीर में विटामिन ई की कमी से कई शारीरिक बीमारी के साथ-साथ मानसिक बीमारियां भी हो सकती हैं। इसमें थकान, कमजोरी के अलावा तनाव भी हो सकता है।

विटामिन ई की कमी को दूर करने के लिए सबसे पहले अपने डाइट में परिवर्तन करें और विटामिन ई सप्लीमेंट ले। शरीर में विटामिन ई की आपूर्ति करें। लेकिन सबसे पहले यह सुनिश्चित करने की विटामिन ई का सप्लीमेंट आप अपनी मर्जी से नहीं बल्कि डॉक्टर की सलाह से लें।

कुछ प्रमुख दवाइयों का सेवन करके भी शरीर में विटामिन ई की कमी को दूर किया जा सकता है। शरीर में यदि आपको विटामिन ई के लक्षण दिख रहे हो तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें और किसी भी गंभीर स्थिति से बचे रहें।

 अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें, सजग रहें और स्वस्थ रहें

यह भी पढ़ें :–

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *