कम वजन की समस्या को दूर करने के लिए रोजाना करें यह योगासन

हमारे शरीर का वजन हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करने का काम करता है। वजन का बहुत ज्यादा होना या फिर वजन का कम होना दोनों ही सेहत के लिए काफी नुकसानदेह समझा जाता है।

आज ज्यादातर लोग अधिक वजन की समस्या से परेशान हैं और इसे स्वास्थ्य समस्या को दूर करने के लिए ज्यादातर लोग इस पर ध्यान दे रहे हैं। लेकिन स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि वजन का कम होना भी सेहत के लिए नुकसानदेह साबित होता है।

अगर आपका वजन बॉडी मास इंडेक्स 18.5 से कम है तब इसे अंडरवेट माना जाता है। सामान्य से कम वजन होने पर शरीर में कई तरह की समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।

जिस तरह से वजन का अधिक होना हमारे शरीर में समस्याएं उत्पन्न करता है उसी तरीके से वजन का कम होना भी कई स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि वजन कम होने का कई कारण हो सकता है। कुछ लोगों में जेनेटिक समस्या की वजह से वजन नहीं बढ़ता और काफी कम रहता है।

वहीं ज्यादातर लोगों में पोषण की कमी पोषण के अनुचित अवशोषण और पर्याप्त शारीरिक गतिविधि न होने की वजह से भी कम वजन की समस्या देखने को मिलती है।

जिस तरह से बड़े हुए वजन को कम करने के लिए एक्सरसाइज पर ध्यान दिया जाता है उसी तरीके से वजन को बढ़ाने के लिए भी एक्सरसाइज फायदेमंद है।

शरीर का वजन बढ़ाने के लिए पौष्टिक आहार के साथ-साथ शारीरिक व्यायाम और योगा बहुत उपयोगी है। आज हम जानेंगे कुछ ऐसे योगा को जो वजन को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकते हैं।

वज्रासन

जिन लोगों का वजन सामान्य से कम होता है उन्हें अंडरवेट कहा जाता है। उन लोगों के लिए वज्रासन करना काफी फायदेमंद होता है। वज्रासन करने से पाचन तंत्र बेहतर ढंग से काम करता है और खाना सही से पचता है। यह योगासन करने से मेटाबॉलिज्म बेहतर रहता है।

  •  इस योग को करने के लिए सबसे पहले अपने घुटनों के बल बैठ जाएं।
  • अब अपनी एडी और अपनी जांघों को एक सीध में सटा कर बैठे।
  • अपने हाथों को अपनी जांघों पर एक सिर में रखें और अपनी पीठ को सीधा रखें।
  •  इस अवस्था में गहरी सांस लें और 10 मिनट तक इसी अवस्था में बने रहे।
  • फिर आराम से बैठने की स्थिति में वापस आ जाएं।
  •  इस प्रक्रिया को दो से तीन बार रोजाना किया जा सकता है।

पवनमुक्तासन योगा

पवनमुक्तासन योगा पाचन तंत्र को बेहतर करने और इसे उत्तेजित करने का काम करता है। यह योगासन अति सक्रिय मेटाबॉलिज्म को शांत करता है और पोषक तत्व के अवशोषण को बेहतर करता है।

  •  इस योगा को करने के लिए अपने पीठ के बल लेट जाएं।
  •  अब अपने दोनों पैरों को मिलाते हुए हथेली को जमीन पर ले आए।
  •  इसके बाद अपने दाहिने पैर को घुटने से मोटे हुए अपने चेस्ट के नजदीक लाए।
  •  फिर दोनों हाथों की उंगलियों को मिलाते हुए घुटने से थोड़ा नीचे दोनों पैरों को पकड़ लो।
  •  अब पैरों का दबाव सीधे आपके चेस्ट पर पड़ने लगेगा।
  • इस अवस्था में धीरे-धीरे अंदर सांस लें और बाहर छोड़ें।
  • करीब 10 मिनट तक इस योगाभ्यास का रोजाना अभ्यास करें।

मत्स्यासन योगा

वजन बढ़ाने के लिए मत्स्यासन योगा काफी फायदेमंद माना जाता है। यह थायराइड ग्रंथि के काम को प्रभावित करता है। यह योगा अति थायरॉइड को नियंत्रित करता है जो कि वजन घटाने का कारण माना जाता है। इस योग को करने से पाचन प्रजनन और हृदय मजबूत हो जाता है।

  • इस योग को करने के लिए सबसे पहले अपने पेट के बल लेट जाएं।
  •  अपनी बाहों को अपने शरीर के नीचे मोर ले।
  • अब अपने सिर और अपने चेस्ट को ऊपर की तरफ उठाएं।
  •  धीरे-धीरे सांस लें और अपनी सिर को झुकाते हुए पीठ को झुकाते हुए हैं।
  •  अपने शरीर को जमीन पर टिका दें
  •  अपने कुहानियों के आधार पर अपने शरीर को संतुलित करने का प्रयास करें।
  •  गहरी सांस लें और छोड़ें।
  • जब तक आप सहज स्थिति में हो सके इस योगासन का रोजाना अभ्यास करें।
भुजंगासन योगा

भुजंगासन योगा को पाचन तंत्र को सुधारने और वजन को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। यह प्रजनन से जुड़े प्रणाली को उत्तेजित करता है।

  • इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं और अपनी हथेली को कंधे के नीचे कर ले।
  • अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए शरीर के अगले हिस्से को ऊपर की तरफ उठाएं।
  •  करीब 20 सेकेंड तक इस स्थिति में बने रहें फिर वापस सामान्य स्थिति में आ जाएं।
  •  इस योगासन को स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत फायदेमंद माना जाता है।

यह भी पढ़ें :

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *