यूरिक एसिड पर कंट्रोल पाने के लिए हल्दी का ऐसे करें इस्तेमाल जल्दी होगा फायदा

Uric Acid Remedies : –

हमारे शरीर में क्लोरीन नाम का एक प्रोटीन पाया जाता है। इसी से ब्रेकडाउन होकर यूरिक एसिड वेस्ट प्रोडक्ट के रूप में हमारे शरीर में निकलता है।

एक स्वस्थ शरीर में किडनी में ब्लेंड होकर यूरिक एसिड यूरिन में पहुंच जाता है और पेशाब के जरिये बाहर निकल जाता है। लेकिन अगर अत्यधिक मात्रा में शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने लगता है तब इससे किडनी में टॉक्सिक पदार्थ सही ढंग से फिल्टर नहीं हो पाती है।

 एक शोध के अनुसार अगर किसी व्यक्ति के शरीर खून में यूरिक एसिड का स्तर काफी ज्यादा बढ़ जाता है तो उस वक्त की उम्र में करीब 11 साल तक की कमी हो जाता है  अच्छे स्वास्थ्य के लिए यूरिक एसिड का सामान्य लेवल पर बने रहना आवश्यक है।

हल्दी से करें यूरिक एसिड कंट्रोल :-

यूरिक एसिड कंट्रोल करने के लिए हल्दी का सेवन किया जा सकता है। हमारे किचन में पाई जाने वाली हल्दी में करकयोमिन नामक एक तत्व होता है और यह तत्व शरीर में यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में बहुत मददगार होता है।

जब शरीर में ज्यादा मात्रा में यूरिक एसिड होने लगता है तो गाउट जैसी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में इस परेशानी से बचने के लिए हल्दी का उपयोग किया जा सकता है।

जोड़ो के दर्द को कम करने में मददगार :-

हाईपरयुरिसेमिया से पीड़ित लोगों में जोड़ों में दर्द अकड़न और सूजन की समस्याएं रहती है। एक शोध के अनुसार जोड़ों में दर्द गठिया या फिर गाउट की समस्या के इलाज में करकयोमिन बहुत ही फायदेमंद होता है।

वही एक दूसरे शोध में भी यह बताया गया है कि फ्लेक्सोंफिटोल नामक तत्व होता है। यह एक ऐसा तत्व है जो पैरों की सूजन को कम करने में बहुत मददगार होता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि यूरिक एसिड पर कंट्रोल करने के लिए हल्दी का इस्तेमाल कई तरीके से किया जा सकता है।

हल्दी वाला दूध :-

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार सेहत के लिए पेय अवषधियाँ बहुत फायदेमंद होती हैं। हल्दी वाला दूध भी पेय औषधि के समान होता है। इसलिए रोजाना रात के समय सोने से पहले हल्दी वाला दूध पीने से पैरों में सूजन और दर्द को कम किया जा सकता है।

इसके यहां खाने में भी चुटकी भर हल्दी और काली मिर्च का इस्तेमाल करना भी फायदेमंद होता है। इससे भी जोड़ों के दर्द में काफी राहत मिलती है।

गठिया में फायदेमंद – गठिया के रोगियों को काफी ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। लेकिन हल्दी में पाया जाने वाला तत्व गठिया के दर्द को कम करता है और आराम पहुंचाता है।

इसका इस्तेमाल सप्लीमेंट के तौर पर भी किया जा सकता है। लेकिन हल्दी का इस्तेमाल करने से पहले गठिया के मरीजों को चाहिए कि वह डॉक्टर की सलाह लें। इसके अलावा हल्दी वाली चाय पीना भी काफी राहत पहुंचाता है।

लेप लगाना भी फायदेमंद स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार दर्द वाली जगह पर हल्दी का पेस्ट बनाकर लगाने से भी दर्द में जल्दी आराम मिलता है। हल्दी में जरा सा पानी मिलाकर उसे पीसकर इसका लेप बनाया जा सकता है। फिर उस लेप को दर्द वाली जगह पर लगाएं इससे दर्द में जल्दी राहत मिलती है।

यह भी पढ़ें :

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.